Market Samiksha



बंगलादेश की मांग कमजोर होने के मद्देनजर गैर-बामसती चावल के निर्यात में 13 फीसदी की आई गिरावट

posted on : Give Ranking : 0 0
नई दिल्ली, (सुभाष भारती):
चालू वित्त वर्ष 2018-19 के पहले सात महीनों अप्रैल से अक्टूबर के दौरान गैर-बासमती चावल के निर्यात में 12.97 फीसदी की गिरावट आकर कुल निर्यात 43.6 लाख टन का ही हुआ है जबकि पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि में इसका निर्यात 50.1 लाख टन का हुआ था। बंगलादेश की आयात मांग कम होने से चालू वित्त वर्ष में कुल निर्यात पिछले साल से कम रहने की आशंका है। कृषि और प्रसंस्कृत खाद्य उत्पाद निर्यात विकास प्राधिकरण (एपीडा) के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि पिछले साल बंगलादेश में चावल का उत्पादन कम हुआ था, जिस कारण बंगलादेश की आयात मांग ज्यादा रही थी। चालू सीजन में बंगलादेश में उत्पादन ज्यादा होने का अनुमान है इसलिए बंगलादेश की आयात मांग कम रहने की उम्मीद है। उन्होंने बताया कि गैर-बासमती चावल का सबसे अधिक निर्यात बंगलादेश और अफ्रीकन देशों को होता है।
अक्टूबर में गैर-बासमती चावल के निर्यात में 12.01 फीसदी की गिरावट होने से 6.37 लाख टन का ही निर्यात हुआ है जबकि पिछले साल 7.24 लाख टन का निर्यात हुआ था।

पिछले वित्त वर्ष में चावल का हुआ था रिकार्ड निर्यात
एपीडा के अनुसार वित्त वर्ष 2017-18 में देश से रिकार्ड 86.48 लाख टन गैर-बासमती चावल का निर्यात हुआ था, जबकि इसके पिछले वित्त वर्ष 2016-17 में 67.70 लाख टन गैर-बासमती चावल का निर्यात हुआ था। उन्होंने बताया कि सामान्यत: 65 लाख टन गैर-बासमती चावल का सालाना निर्यात होता है तथा चालू वित्त वर्ष 2018-19 में भी इतना ही निर्यात होने का अनुमान है।

उत्पादन बढऩे का अनुमान
कृषि मंत्रालय के पहले आरंभिक अनुमान के अनुसार चालू फसल सीजन 2018-19 में चावल का उत्पादन 992.4 लाख टन होने का अनुमान है जबकि पिछले साल 975 लाख टन का उत्पादन हुआ था।


RECENT POSTS



SEARCH



ARCHIVE



TOPICS










X