Market Samiksha



गैर बासमती चावल के निर्यात में केन्द्र सरकार ने 5 फीसदी एनसेंटिव देने का किया फैसला

posted on : Give Ranking : 0 0
(सुभाष भारती):
चालू वित्त वर्ष 2018-19 की पहली छमाही में गैर-बासमती चावल के निर्यात में आई गिरावट को देखते हुए केंद्र सरकार ने निर्यात पर निर्यातकों को 5 फीसदी एनसेंटिव देने का फैसला किया है। गैर-बासमती चावल के निर्यात पर निर्यातकों को अगले चार महीने मार्च 2019 तक इनसेंटिव का लाभ मिलेगा। विदेश व्यापार महानिदेशालय (डीजीएफटी) द्वारा जारी अधिूसचना के अनुसार गैर-बासमती चावल के निर्यात पर निर्यातकों को 26 नवंबर 2018 से 25 मार्च 2019 तक पांच फीसदी का इनसेंटिव दिया जायेगा। इससे गैर-बासमती चावल के निर्यात में तेजी आने का अनुमान है।

- पहली छमाही में निर्यात 13.13 फीसदी घटा
वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय के अनुसार चालू वित्त वर्ष 2018-19 के पहले छह महीनों अप्रैल से सितंबर के दौरान गैर-बासमती चावल के निर्यात में 13.13 फीसदी की गिरावट आकर कुल निर्यात 37.23 लाख टन का ही हुआ है जबकि पिछले वित्त वर्ष 2017-18 की समान अवधि में इसका निर्यात 42.86 लाख टन का हुआ था।

- बंगलादेश ने किया है सबसे ज्यादा आयात
मूल्य के हिसाब से चालू वित्त वर्ष की पहली छमाही अप्रैल से सितंबर के दौरान गैर-बासमती चावल का निर्यात 10,426 करोड़ रुपये का ही हुआ है जबकि पिछले वित्त वर्ष 2016-17 की समान अवधि में इसका निर्यात 22,236 करोड़ रुपये का हुआ था। चालू वित्त वर्ष की पहली छमाही में गैर-बासमती चावल का सबसे ज्यादा आयात बंगलादेश, सेनेगल, नेपाल और बहरीन और इंडोनेशिया ने किया है।

- पिछले वित्त वर्ष में बढ़ा था निर्यात
एपीडा के अनुसार वित्त वर्ष 2017-18 के दौरान गैर बासमती चावल का निर्यात 86,48,488 टन का 22,967.82 करोड़ रुपये का हुआ था जोकि इसके पिछले वित्त वर्ष 2016-17 के 16,929.88 करोड़ रुपये से ज्यादा है।

- घरेलू बाजार में भाव में आयेगा सुधार
गैर बासमती के प्रमुख एक्सपोर्टर ने बताया कि केंद्र सरकार द्वारा इनसेंटिव घोषित करने से घरेलू बाजार में गैर-बासमती चावल की कीमतों में तो सुधार आयेगा ही, साथ ही निर्यातकों को भी इसका फायदा मिलेगा, तथा निर्यात सौदों में तेजी आयेगी।
 
- उत्पादन बढऩे का अनुमान
कृषि मंत्रालय के पहले आरंभिक अनुमान के अनुसार खरीफ सीजन 2018-19 में चावल का उत्पादन बढक़र 992.4 लाख टन होने का अनुमान है जबकि पिछले खरीफ सीजन में 975 लाख टन चावल का उत्पादन हुआ था।


RECENT POSTS



SEARCH



ARCHIVE



TOPICS










X