Sangrur News



भट्ठा ट्रेड को बचाने के लिए भट्ठा भलाई संस्था संगरूर का गठन

posted on :
माँग: जिला प्रशासन भट्ठों संबंधी एन.जी.टी के नियमों को सख्ती से लागू करवाये
- वफद ने एक्सियन और जिला प्रशासनिक अधिकारियों के साथ की भेंट
संगरूर, 18 नवंबर (सुभाष भारती):
रैस्ट हाउस संगरूर में जिला संगरूर के बड़ी संख्या में भट्ठा मालिकों ने इकत्रित होकर दुर्गा प्रसाद की अध्यक्षता में मीटिंग करके भट्ठा ट्रेड को बचाने के लिए 20 सदस्यीय भट्ठा भलाई संस्था का गठन किया गया। इस समय मुख्य मुद्दा यह सामने आया कि एन.जी टी और पंजाब प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड की तरफ से लिए गए फैसले मुताबिक भट्ठे को एक फरवरी से चलाये जा सकते हैं (आग एक फरवरी 2019 को ही दी जा सकती है)। इस फैसले की परवाह न करते हुए जिला प्रशासन और प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के जिला अधिकारियों के आदेशों की अनदेखी कर तीन भट्ठा मालिकों ने अपने भट्ठों को आग दे दी। इन भट्ठा मालिकों का कहना है कि वह नियमों मुताबिक ही भट्ठे चलाएंगे और जो नियमों का उलंघन करते हैं जिला प्रशासन और पंजाब प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड उनके विरुद्ध बनती कार्यवाही करे।
         इस समय एक वफद जिला प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड के एक्सियन हरजीत सिंह को मिला और उनसे भट्ठे चलाने संबंधी पंजाब प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड और एन.जी.टी के दिशा-निर्देशों के बारे में जानकारी माँगी। उन्होंने कहा कि दोनों विभागों के स्पष्ट निर्देश हैं कि कोई भी भट्ठा मालिक एक फरवरी 2019 से पहले भट्ठे को नहीं चला सकते और जो भी कानून का उल्लंघन करेगा उसके विरुद्ध विभागीय कार्रवाई की जाएगी। जब उनसे यह पूछा गया कि जिन भट्ठा मालिकों ने अपने भट्ठों को आग दी है उन पर क्या कार्यवाही हो रही है? इस पर उन्होंने कहा कि हमने उच्चाधिकारियों को रिपोर्ट भेज दी है कार्यवाही करना उनका काम है।
जब मीडिया द्वारा प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के एक्सियन हरजीत सिंह से यह पूछा गया कि वह कौन-कौन से भट्ठा मालिक हैं जिन्होंने भट्ठों को आग दी है और उनके विरुद्ध आपके द्वारा क्या रिपोर्ट भेजी है। उन्होंने भट्ठा मालिकों के नाम और उनके विरुद्ध कार्यवाही के लिए क्या लिखा गया है, इस बारे में उन्होंने मीडिया को बताने से मना कर दिया। उन्होंने कहा कि एन.जी.टी के नियमों का उल्लंघन करने वालों पर कार्यवाही करने के अधिकार डिप्टी कमिश्नर और जिला पुलिस प्रमुख के पास भी हैं। 
भट्ठा भलाई संस्था के वफद ने जब जिला प्रशासन के अतिरिक्त डी.एम. पवित्र सिंह के साथ बातचीत की तो उन्होंने कहा कि उन्होंने प्रदूषण बोर्ड के ऐक्सियन से यह जवाब लिखित रूप में माँगा है कि नियमों की अनदेखी करने वालों के विरुद्ध कौन क्या कार्यवाही कर सकता है यह लिखित रूप में स्पष्ट किया जाये और साथ ही लायसेंस बनाने और रद्द करने के अधिकारों के बारे में भी स्पष्ट किया जाये। उन्होंने वफद को भरोसा देते कहा कि जो नियमों का उल्लंघन करेंगे उनके विरुद्ध सख्त कार्यवाही अमल में लाई जायेगी। 
इस समय गठत की गई 20 सदस्यीय समिति के सदस्यों में दुनी चंद, जगजीत सिंह, दुर्गा प्रसाद, लक्षय मोदी, अशोक कुमार, संजय बांसल, फतेह प्रभाकर, सुरिन्दर पाल शर्मा, सुरेश कुमार भोला, नरिन्दर सिंह, पवन कुमार, केवल किशन, शुभकरण शर्मा, दीपक गर्ग, राम लाल शर्मा, अमरनाथ नागरी, सुशील कुमार आदि मैंबर चुने गए।

5 1




RECENT POSTS



SEARCH



ARCHIVE



TOPICS










X