Sangrur News



मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने संगरूर में 100 बिस्तरों वाले कैंसर अस्पताल का किया उद्घाटन

posted on :
* संगरूर में ओंकौलोजी ट्रेनिंग सैंटर की स्थापना का ऐलान
* मुल्लांपुर कैंसर अस्पताल की प्रगति का लिया जायजा
* अगले वर्ष की दीवाली तक इसे मुकम्मल करने के दिए आदेश
संगरूर, 12 नवंबर (सुभाष भारती):
पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने राज्य के लोगों को वाजिब दरों पर कैंसर का इलाज मुहैया करवाने संबंधी अपनी सरकार के मिशन को आगे ले जाते हुए आज संगरूर में 100 बिस्तरों के अत्याधुनिक होमी भाभा कैंसर अस्पताल का उद्घाटन किया ।
मुख्यमंत्री ने कहा कि होमी भाभा कैंसर अस्पताल संगरूर की स्थापना राज्य सरकार के सहयोग से की गई है और उद्घाटन किये गए इस नये अस्पताल में अत्याधुनिक ओंकौलोजी प्रशिक्षण सैंटर की योजना भी बनाई गई है। उनके साथ स्वास्थ्य मंत्री ब्रह्म मोहिंद्रा और पी.डबल्यू.डी. मंत्री विजयइंद्र सिंगला भी उपस्थित थे।
मुख्यमंत्री ने संगरूर जिले के लिए कैंसर रोकथाम प्रोग्राम की भी शुरूआत की जिसके तहत कैंसर के जोखिम कारकों और बीमारी संबंधी हिफाजती कारणों संबंधी व्यापक स्वास्थ्य शिक्षा मुहैया कराने के अलावा कैंसर का पता लगाने और इस इलाज को सुविधाजनक ढंग से प्राप्त करने के लिए इस संबंधी सुविधाओं को लोगों के नजदीकी मुहैया करवाया जायेगा।
इसके बाद मुख्यमंत्री ने चंडीगढ़ के नज़दीक मुल्लांपुर में बनाऐ जा रहे टाटा कैंसर अस्पताल का भी जायज़ा लिया। उन्होंने कहा कि आगामी दीवाली तक इसको अमल में लाया जायेगा। उन्होंने अस्पताल के निर्माण में तेज़ी लाने के लिए सम्बन्धित कर्मचारियों को निर्देश जारी किये।
कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने बताया कि 29 करोड़ रुपए की लागत से फाजिल्का में तीसरे दर्जे के कैंसर केयर सैंटर का निर्माण किया जा रहा है जो सितम्बर-2019 तक काम करना शुरू कर देगा। इसके अलावा अमृतसर में 114 करोड़ रुपए की लागत से स्टेट कैंसर इंस्टीट्यूट भी स्थापित किया जायेगा। मुख्यमंत्री ने संगरूर सिविल अस्पताल के लिए सात करोड़ रुपए का भी ऐलान किया।
       ब्रह्म मोहिंद्रा और विजय इंद्र सिंगला के साथ मुख्यमंत्री ने नये कैंसर अस्पताल में सुविधाओं की जानकारी प्राप्त करने के लिए अस्पताल का दौरा भी किया और डाक्टरों और मैडीकल स्टॉफ के साथ बातचीत की। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि पंजाब सरकार ने स्वास्थ्य सुविधाओं और सरकारी अस्पतालों में बुनियादी ढांचे को मज़बूत बनाने के लिए ठोस कदम उठाए हैं। उन्होंने बताया कि 588 डाक्टर जल्द ही स्वास्थ्य विभाग को ज्वाईंन कर लेंगे और उनको अपने निवास स्थानों के नज़दीक तैनात किया जायेगा जिससे वह मरीजों की तह-दिल से सेवा करने के लिए समर्थ हो सकें। मंत्री ने आगे बताया कि डायलसिस की सुविधा के अलावा तपेदिक और हैपेटाइटिस-सी के सभी टैस्ट सभी 22 सरकारी अस्पतालों में मुफ़्त करवाए जा रहे हैं। उन्होंने यह भी बताया कि निजी अस्पताल की सेवाओं को दुरुस्त करने के लिए क्लीनीकल एस्टैबलिशमैंट एक्ट पर सरकार कार्य कर रही है।
सिंगला ने संगरूर में कैंसर अस्पताल स्थापित करने के लिए पूर्व प्रधानमंत्री डा. मनमोहन सिंह के निर्देशों पर टाटा मेमोरियल अस्पताल के डायरैक्टर पदमश्री डा. आर.ए. वधवा के साथ अपनी पहली मीटिंग का जिक्र किया। उन्होंने कहा कि यह अस्पताल दवाओं पर 66 प्रतिशत सब्सिडी देगा और टैस्टों की दरें वाजिब होंगी। इसके अलावा बीमारी का पता लगने पर उसका मुफ़्त इलाज होगा।
डा.आर.ए. वधवा ने अपने भाषन में कहा कि होमी भाभा कैंसर अस्पताल बाबा फऱीद यूनिवर्सिटी ऑफ हैल्थ साईंसेज के द्वारा बी.एस.सी. के पाँच पाठ्यक्रम चला रहा है। इसके अलावा इस अकादमिक वर्ष से हिस्टोपाथ की मास्टर डिग्री भी शुरू की जा रही है। उन्होंने आगे बताया कि बी.एस.सी., आई.सी.यू. और ओंकौलोजी नर्सिंग संबंधी डिप्लोमा अगले वर्ष से शुरू किया जा रहा है।
इस मौके पर मुख्यमंत्री ने एच.पी.सी.एल. के अनूप गुप्ता, एच.एम.ई.सी. के चरनजीत सिंह, आई.ओ.सी. के रवीन्द्र सिंह नन्दा और कैंसर के मरीज़ों के कल्याण के लिए सेवाओं के लिए मुनीश गर्ग और अनूप सिंगला को सम्मानित किया।
इससे पहले मुख्यमंत्री जोकि जनरल गुरनाम सिंह पब्लिक स्कूल संगरूर के चेयरमैन भी हैं, द्वारा स्कूल कैंपस में ग्रिड से जुड़े हुए रूफ़ टोप सोलर प्लांट का उद्घाटन भी किया। 120 किलोवाट के सामथ्र्य वाला यह प्रोजैक्ट 52.80 लाख की लागत से तैयार किया गया है। इस मौके पर पंजाब के उच्च शिक्षा मंत्री रजिया सुलताना, पंजाब राज्य योजना बोर्ड के वाइस चेयरपर्सन रजिन्दर कौर भ_ल, विधायक सुरजीत सिंह धीमान और दलवीर सिंह गोलडी, प्रवक्ता पंजाब कांग्रेस दमन थिंद बाजवा, बाबा फऱीद यूनिवर्सिटी अॅाफ हैल्थ साईंसेज़ के उप कुलपति डा. राज बहादुर और ऐडीशनल चीफ़ सचिव स्वास्थ्य सतीश चंद्रा भी उनके साथ मौजूद थे।
इस उपरांत चंडीगढ़ में मुल्लांपुर अस्पताल की प्रगति का जायज़ा लेते हुए मुख्यमंत्री ने 664 करोड़ रुपए की लागत वाले इस प्रोजैक्ट को निर्धारित समय के अंदर मुकम्मल करने के लिए टाटा मेमोरियल अस्पताल मुंबई के डायरैक्टर को पूर्ण सहयोग देने का भरोसा दिलाया।
इस मौके पर राज्य ख़ास कर दक्षिणी पंजाब में कैंसर के प्रसार को रोकने के लिए मुख्यमंत्री ने डा. बदवे को कहा कि अलग-अलग किस्मों के कैंसर से पीडि़त मरीजों पर आधारित डाटाबेस तैयार किया जाये जिससे प्राथमिक तौर पर ही स्क्रीनिंग करतेसमय उपयुक्त इलाज करवाया जा सके।
इस दौरान कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने स्वास्थ्य मंत्री ब्रह्म मोहिंद्रा को कहा कि गरीब और जरूरतमंद लोगों की सुविधा और बेहतर इलाज को यकीनी बनाने के लिए ऐसी कंपनियों के साथ संबंध कायम करने के यत्न किये जाएँ जो सरकारी अस्पतालों को मैडीकल मशीनरी और बुनियादी ढांचा मुफ़्त मुहैया करवा के पंजाब सरकार द्वारा किये जा रहे यत्नों को सम्पूर्ण करने में मददगार साबित हो सकें। उन्होंने स्वास्थ्य मंत्री को इस उद्देश्य के लिए परोपकारी लोगों, एन.जी.ओज़, धार्मिक और सामाजिक संगठनों की भी सेवाएंं प्राप्त करने के लिए कहा। समीक्षा मीटिंग के दौरान मुख्यमंत्री पंजाब के मुख्य प्रमुख सचिव सुरेश कुमार और अतिरिक्त मुख्य सचिव आवास और शहरी विकास विनी महाजन भी उपस्थित थे।
 

बेअदबी मामलों में बादलों और अक्षय कुमार को सम्मन जारी करने में सरकार की कोई भूमिका नहीं -कैप्टन अमरिन्दर सिंह
संगरूर, 12 नवंबर (सुभाष भारती):
पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने आज स्पष्ट किया कि वर्ष 2015 में घटित बेअदबी और पुलिस गोलीबारी की घटनाओं की जांच के लिए बनाई गई विशेष जांच टीम (एस.आई.टी.) द्वारा बादलों और फिल्म अदाकार अक्षय कुमार को सम्मन जारी करने में उनकी सरकार की कोई भूमिका नहीं है।
आज संगरूर में होमी भाभा कैंसर अस्पताल के उद्घाटन के बाद पत्रकारों से बातचीत के दौरान एक सवाल के जवाब में मुख्यमंत्री ने कहा कि विशेष जांच टीम एक स्वतंत्र एजेंसी है जो सरकार के किसी किस्म के दख़ल के बिना काम कर रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि विधानसभा में सर्वसम्मति से हुए फैसले के अंतर्गत एस.आई.टी. का गठन करना उनकी सरकार का काम था जो उन्होंने कर दिया है और अब जांच की जि़म्मेदारी एस.आई.टी. के कंधों पर है।
एक अन्य सवाल के जवाब में मुख्यमंत्री ने मंडियों में किसानों की फसल का एक-एक दाना उठाने के लिए अपनी सरकार की वचनबद्धता को दोहराया। मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्होंने उपभोक्ता मामलों, खाद्य और सार्वजनिक वितरण केंद्रीय मंत्री को पहले ही पत्र लिखकर नमी की मात्रा का मामला हल करने के लिए कहा है। उन्होंने कहा कि कटाई से पहले बेमौसमी और भारी बारिश पडऩे से यह समस्या पैदा हुई है। मुख्यमंत्री ने बताया कि उन्होंने केंद्रीय मंत्री को लिखे पत्र में धान की नमी के तौर पर कम से कम समर्थन मूल्य पर एक की बजाये 2 प्रतिशत छूट देने की माँग की थी जिससे सावन ऋतु की बाकी रहती खऱीद बिना किसी दिक्कत और निर्विघ्न की जा सके।
सरकारी अस्पतालों में डाक्टरों की कमी के मुद्दे पर मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी अस्पतालों में जल्द ही 588 डाक्टरों की तैनाती की जायेगी। कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने कहा कि वह डाक्टरों को उनकी रिहायश के नजदीक ही तैनात करने के हक में हैं जिससे उनके काम करने में और कुशलता आयेगी। 
अध्यापकों के चल रहे प्रदर्शन संबंधी पूछे सवाल के जवाब में मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार ने अध्यापकों को उचित पेशकश की थी कि या तो वह प्रोबेशनरों के तौर पर रेगुलर नौकरी पर उपस्थित हों या फिर ठेके के आधार पर सेवाएंं जारी रखें। उन्होंने कहा कि इस पेशकश को स्वीकृत या रद्द करना अब अध्यापकों पर निर्भर है। योग्य नौजवानों को स्मार्ट फ़ोन देने के चुनावी वायदे संबंधी मुख्यमंत्री ने कहा कि इस संबंधी टैंड्रिंग प्रक्रिया पहले ही शुरू की जा चुकी है और फोन बाँटने जल्द ही शुरू किये जाएंगे। वर्ष 2019 के लोक सभा चुनाव के लिए उम्मीदवारों के ऐलान संबंधी कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने कहा कि चुनाव का ऐलान होने के बाद उम्मीदवारों संबंधी फैसला लिया जायेगा।

0 0




RECENT POSTS



SEARCH



ARCHIVE



TOPICS










X