Milling News


शैलर उद्योग प्रति पावरकाम की तरफ से बनाई नई नीति का शैलर मालिकों की तरफ से विरोध करते तुरन्त वापस लेने की की मांग

posted on :
अमलोह, (सुभाष भारती):
राइस मिलर्स एसोसिएशन अमलोह के अध्यक्ष राकेश कुमार गर्ग ने पिछले दिनों पंजाब के मुख्य मंत्री और पंजाब पॉवरकाम के चेयरमैन को ई-मेल के द्वारा पॉवरकाम की तरफ से शैलर उद्योग प्रति बनाई नई नीति की निंदा करते माँग की कि यह नीति तुरन्त वापस ली जाये। उन्होंने बताया कि इस नई नीति मुताबिक हर शैलर मालिक को 9 महीनों का बिल देना पड़ेगा जबकि शैलर उद्योग केवल 5 महीने ही चलता है। उन्होंने कहा कि नई नीति मुताबिक 1 अक्तूबर से 30 जून तक के 9 महीनों का बिल देने के आदेश दिए हैं जबकि मंडियों से में अक्तूबर के पहले सप्ताह धान आती है और सभी शैलर 31 अक्तूबर के बाद ही धान की मिलिंग का काम शुरू करते हैं और शैलर मालिकों की तरफ से सरकारी एजेंसियाँ को 31 मार्च तक धान की मिलिंग करके चावल जमा करवाना होता है, यदि इस समय तक राइस मिलर्स बनता चावल एजेंसियों को जमा नहीं करवा पाता तो उसे पैनलटी के रूप में जुर्माना देना पड़ता है परंतु फिर भी अधिक से अधिक शैलरों का काम 30 अप्रैल तक ही चलता है जिस मुताबिक 5 महीनों का समय बनता है। गर्ग ने बताया कि मुख्य मंत्री दफ़्तर की तरफ से पिछले दिनों ई-मेल के द्वारा सूचित किया गया कि उनकी तरफ से यह मामला पॉवरकाम के सचिव को अपेक्षित कार्यवाही के लिए भेज दिया है। उन्होंने तुरंत कार्यवाही की माँग की।

0 0


your name*

email address*

comments*
You may use these HTML tags:<p> <u> <i> <b> <strong> <del> <code> <hr> <em> <ul> <li> <ol> <span> <div>

verification code*
 






RECENT POSTS



SEARCH



ARCHIVE



TOPICS